fbpx

MSME Unit

  1. About MSME:

Have you heard about MSME Unit ?

  1. MSME Meaning:

Micro, Small And Medium Enterprises.

In other words, it is a classification of Business Activities upon the basis of Investment and Turnover.

  1. Classification of enterprises:

 

An enterprise shall be classified as a micro, small or medium enterprise on the basis of the following criteria :

 

  • A Micro Enterprise:

Where the investment in plant and machinery or equipment does not exceed 1.00 Crore Rupees and Turnover does not exceed 5.00 Crores Rupees.

 

  • A Small Enterprise:

Where the investment in plant and machinery or equipment does not exceed 10.00 Crores Rupees and Turnover does not exceed 50.00 Crores Rupees.

 

  • A Medium Enterprise:

Where the investment in plant and machinery or equipment does not exceed 50.00 Crores Rupees and Turnover does not exceed 250.00 Crores Rupees.

 

  1. Business Activities Covered:

Here it is important points to know is that Only Manufacturing and Services Activities are covered under MSME. Whole Sales and Retail Sales Trading Activities shall not be covered under MSME.

  1. How MSME Registration is beneficial:

 

MSME registration has also known as “Udyam Registration”. If you are running any business then you should registered it in MSME. So that you can take the following major benefits:

 

  • It will give a Unique ID that gives an identification of your business.
  • You can take the benefits of various subsidy schemes of Central Govt and State Govt.
  • Bank will give easily loan to your business
  • You can take interest subsidy on loan.
  • You can take the waiver in Trade Mark Fees.
  • Can take preference in Govt. Tender Project and relaxation in deposit EMD Amount.
  • Can take the benefits of GST Refund
  • Benefits of Stamp Duty Refund and more.

 

  1. Special Benefits to MSME in Haryana.

Govt. of Haryana has prescribed special incentives for MSME Registered Business Units. The State has launched a special policy named as “Haryana Enterprises Promotion Policy 2020” in which special incentives has been framed for MSME units.

These are as:

  1. Refund of SGST
  2. Interest subsidy on Bank Term Loan
  3. Employment Generation Subsidy
  4. Stamp Duty Refund
  5. Electricity Duty Exemption
  6. Refund of CLU Fees
  7. Market Development Assistance
  8. Testing Equipment Assistance
  9. Assistance for Technology Acquisition
  10. Reimbursement of Patent Fees
  11. Reimbursement of Quality Certification Fees such as ISO/BSI/ZED etc.
  12. Assistance For Set up Pollution Control Devices
  13. Subsidy For set up Solar Power
  14. Benefits for Energy Conservation
  15. Reimbursement of Cost of Water Conservation
  16. Reimbursement of Cost on set up Safety Implements.
  17. Subsidy for Technology Up-Gradation
  18. Research Benefits
  19. Power Tariff Benefits
  20. Incentives for Credit Rating
  21. Benefits of Collateral Free Credit Guarantee Scheme
  22. SME Exchange Equity
  23. Financial Assistance for set up ERP System,
  24. Lean Manufacturing Scheme
  25. State Awards for MSME Units
  26. DG Set Subsidy
  27. Entrepreneurship Development Program
  28. Price Preference Benefits to MSME
  29. Vender Development Program
  30. Special Benefits to Rural Industry under Haryana Gramin Udyogik Vikas Yojna.
  31. Special Benefits to Start-ups

 

  1. Block Categorization:

Haryana Govt. has categorized the whole state in Four block namely as:

Block A

Block B

Block C

And Block D for the purpose of Industrial Development and Promotion throughout the state.

Block A covered the Industrially developed Area such as Faridabad, Ballabgarh, Gurugram etc.

Block B covered the Areas of “Intermediate development” such as Hisar, Jhajjar, Karnal etc.

Block C covered Industrially backward areas such as Bhiwani, Hansi, Jind, Ladwa, Pundri etc.

Block D covered most backward areas such as Loharu, Tosham, Ratia, Jakhal, Agroha, Uklana etc.

Most of Incentives and Scheme of MSME related has framed accordingly the Block location.

So it is more important that what is your business location. If you are going to set up your business in Block B, C and D then you can get more benefits.

To know more about block category, you can visit on our website www.kipfinancial.com or contact our office.

To know more about MSME Schemes and Subsidy, Join our Subsidy Scheme Facebook Group at:

https://www.facebook.com/groups/207876937500049/?ref=share

Subscribe our YouTube Channel at:

https://www.youtube.com/channel/UCIFJyauYY2eTcqmrsT_R6sA

 

Thanks.

KIP Financial Consultancy Pvt. Ltd.

DSB – 38, KIP Complex, Red Square Market, Hisar – 125001, Haryana.

www.kipfinancial.com

email: sales@kipfinancial.com

 

 

MSME Unit

  1. About MSME:

क्या आपने MSME Unit के बारे में सुना है?

  1. एमएसएमई अर्थ:

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम।

दूसरे शब्दों में, यह निवेश और कारोबार के आधार पर व्यावसायिक गतिविधियों का एक वर्गीकरण है।

  1. उद्यमों का वर्गीकरण:

 

एक उद्यम को निम्न मानदंडों के आधार पर सूक्ष्म, लघु या मध्यम उद्यम के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा:

 

(i) एक सूक्ष्म उद्यम:

जहां प्लांट और मशीनरी या उपकरण में निवेश 1.00 करोड़ रुपये से अधिक नहीं है और टर्नओवर 5.00 करोड़ रुपये से अधिक नहीं है।

 

(ii) एक छोटा उद्यम:

जहां संयंत्र और मशीनरी या उपकरण में निवेश 10.00 करोड़ रुपए से अधिक नहीं है और कारोबार 50.00 करोड़ रुपए से अधिक नहीं है।

 

(iii) एक मध्यम उद्यम:

जहां प्लांट और मशीनरी या उपकरण में निवेश 50.00 करोड़ रुपए से अधिक नहीं है और टर्नओवर 250.00 करोड़ रुपए से अधिक नहीं है।

 

  1. व्यावसायिक गतिविधियाँ

यहाँ यह जानना महत्वपूर्ण बिंदु है कि MSME के ​​अंतर्गत केवल विनिर्माण और सेवा गतिविधियाँ शामिल हैं। संपूर्ण बिक्री और खुदरा बिक्री ट्रेडिंग गतिविधियाँ MSME के ​​अंतर्गत नहीं आएंगी।

 

  1. एमएसएमई पंजीकरण कैसे फायदेमंद है:

 

MSME पंजीकरण को “उद्योग पंजीकरण” के रूप में भी जाना जाता है। यदि आप कोई व्यवसाय चला रहे हैं तो आपको इसे एमएसएमई में पंजीकृत करना चाहिए। ताकि आप निम्नलिखित प्रमुख लाभ ले सकें:

 

(i) यह एक विशिष्ट आईडी देगा जो आपके व्यवसाय की पहचान देता है।

(ii) आप केंद्र सरकार और राज्य सरकार की विभिन्न सब्सिडी योजनाओं का लाभ ले सकते हैं।

(iii) बैंक आपके व्यवसाय को आसानी से ऋण देगा

(iv) आप ऋण पर ब्याज अनुदान ले सकते हैं।

(v) आप ट्रेड मार्क शुल्क में छूट ले सकते हैं।

(vi) सरकार में वरीयता ले सकते हैं। निविदा परियोजना और ईएमडी राशि जमा करने में छूट।

(vii) जीएसटी रिफंड के लाभ ले सकते हैं

(viii) स्टैम्प ड्यूटी रिफंड और अधिक के लाभ।

 

  1. हरियाणा में MSME को विशेष लाभ

सरकार। हरियाणा ने MSME पंजीकृत व्यवसाय इकाइयों के लिए विशेष प्रोत्साहन निर्धारित किया है। राज्य नेहरियाणा एंटरप्राइजेज प्रमोशन पॉलिसी 2020” के नाम से एक विशेष नीति शुरू की है जिसमें एमएसएमई इकाइयों के लिए विशेष प्रोत्साहन दिया गया है।

ये क्षेत्र:

  1. एसजीएसटी का रिफंड
  2. बैंक टर्म लोन पर ब्याज सब्सिडी
  3. रोजगार सृजन सब्सिडी
  4. स्टाम्प ड्यूटी वापसी
  5. विद्युत शुल्क में छूट
  6. सीएलयू फीस का रिफंड
  7. बाजार विकास सहायता
  8. परीक्षण उपकरण सहायता
  9. प्रौद्योगिकी अधिग्रहण के लिए सहायता
  10. पेटेंट शुल्क की प्रतिपूर्ति
  11. आईएसओ / बीएसआई / जेडईडी आदि जैसे गुणवत्ता प्रमाणन शुल्क की प्रतिपूर्ति
  12. प्रदूषण नियंत्रण उपकरणों की स्थापना के लिए सहायता
  13. सौर ऊर्जा की स्थापना के लिए सब्सिडी
  14. ऊर्जा संरक्षण के लिए लाभ
  15. जल संरक्षण की लागत की प्रतिपूर्ति
  16. सेट अप सुरक्षा सुरक्षा पर लागत की प्रतिपूर्ति।
  17. प्रौद्योगिकी उन्नयन के लिए सब्सिडी
  18. अनुसंधान लाभ
  19. पावर टैरिफ लाभ
  20. क्रेडिट रेटिंग के लिए प्रोत्साहन
  21. कोलैटरल फ्री क्रेडिट गारंटी योजना के लाभ
  22. एसएमई एक्सचेंज इक्विटी
  23. ईआरपी सिस्ट की स्थापना के लिए वित्तीय सहायता,
  24. Lean विनिर्माण योजना
  25. एमएसएमई इकाइयों के लिए राज्य पुरस्कार
  26. डीजी सेट सब्सिडी
  27. उद्यमिता विकास कार्यक्रम
  28. MSME को मूल्य वरीयता लाभ
  29. वेंडर विकास कार्यक्रम
  30. हरियाणा ग्रामीण उद्योग विकास योजना के तहत ग्रामीण उद्योग को विशेष लाभ।
  31. स्टार्टअप्स को विशेष लाभ

 

  1. ब्लॉक वर्गीकरण:

हरियाणा सरकार। पूरे राज्य को चार ब्लॉक में वर्गीकृत किया है जैसे:

ब्लॉक

ब्लॉक बी

ब्लॉक सी

और पूरे राज्य में औद्योगिक विकास और संवर्धन के उद्देश्य से ब्लॉक डी।

ब्लॉक में मुख्य रूप से विकसित क्षेत्र जैसे कि फरीदाबाद, बल्लभगढ़, गुरुग्राम आदि शामिल हैं।

ब्लॉक बी नेमध्यवर्ती विकासजैसे हिसार, झज्जर, करनाल आदि क्षेत्रों को कवर किया।

ब्लॉक सी ने भिवानी, हांसी, जींद, लाडवा, पुंडरी आदि जैसे प्रमुख रूप से पिछड़े क्षेत्रों को कवर किया।

ब्लॉक डी ने अधिकांश पिछड़े क्षेत्रों जैसे लोहारू, तोशाम, रतिया, जाखल, अग्रोहा, उकलाना आदि को कवर किया।

 

MSME से संबंधित अधिकांश प्रोत्साहन और योजना ब्लॉक स्थान के अनुसार बनाई गई है।

इसलिए यह अधिक महत्वपूर्ण है कि आपका व्यावसायिक स्थान क्या है। यदि आप अपना व्यवसाय ब्लॉक बी, सी और डी में स्थापित करने जा रहे हैं तो आपको अधिक लाभ मिल सकता है।

ब्लॉक श्रेणी के बारे में अधिक जानने के लिए, आप हमारी वेबसाइट www.kipfinancial.com पर जा सकते हैं या हमारे कार्यालय से संपर्क कर सकते हैं।

 

MSME योजनाओं और सब्सिडी के बारे में अधिक जानने के लिए, हमारी सब्सिडी योजना Facebook ग्रुप में शामिल हों:

https://www.facebook.com/groups/207876937500049/?ref=share

 

हमारे Youtube चैनल को सब्सक्राइब करें:

https://www.youtube.com/channel/UCIFJyauY2eTcqmrsT_R6sA

 

Thanks.

KIP Financial Consultancy Pvt. Ltd.

DSB – 38, KIP Complex, Red Square Market, Hisar – 125001, Haryana.

www.kipfinancial.com

email: sales@kipfinancial.com

 

No Comment

Comments are closed.