fbpx

MSME Unit

Special Benefits to MSME in Haryana.

Benefits Related to Technology:

Technology play a very vital role in the business line. IF your plant has adopted advance and updated technology only then you can meet out the market challenge and keep your product up to quality mark.

So in order to consider the importance of Technology related to Plant and Machinery used in Business, The state Govt has made special incentives for adoption of Right Technology.

So, If you are a MSME Registered Unit then You can take the benefits of technology related scheme and cut your product cost.

Some Major Schemes:

  1. Assistance for Technology Acquisition:

Under this, if your business unit has acquired Advanced Technology from Premier National/International Institutes or Patented Technology from Domestic/foreign companies then State Govt shall provide financial Assistance up to 75% of cost of such acquired technology.

Maximum benefits up to Rs. 50.00 Lacs is available under this scheme.

So don’t run your business with traditional and old technology. Adopt advanced technology and get the benefits of this scheme of MSME Department.

 

  1. Testing Equipment Assistance:

Whether your product is up to mark or not, testing of product has become most important in a business. If you can’t remove the defect of your product then market will reject your product.

So in order to ensure “Zero Defect” in the quality of products and makes to it Globally Competitive, you can purchase testing equipment. The MSME Department has provided a Financial Support of 50% of the cost of testing equipment.

Maximum benefits of Rs. 20.00 Lacs Per Year is available under this scheme.

 

  1. Credit Linked Capital Subsidy for Technology Upgradation:

If you are running a business and upgrade the technology then your business unit can take the benefits of this scheme.

For this, Bank Term Loan must be taken for purchase of Plant and Machinery. Only in that case you can take the benefits of this scheme.

Under this scheme:

  • Capital Subsidy:

You can take Capital subsidy @15% of Cost of Plant and Machinery. Maximum Subsidy of Rs. 15.00 lacs can be obtained under this scheme.

  • Interest Subsidy:

You can also take the interest subsidy on Term Loan that you have taken for the purchase of Plant and Machinery.

For Block A and B:

Interest subsidy will be @ 5 %

And IF your business in located under Block C and D then you can take the interest subsidy @ 6%.

 

Maximum Benefits under this scheme is Rs. 10.00 lacs per Year.

Further you can take the benefits of this interest subsidy for a period of 3 Years.

 

To know more about MSME Schemes and Subsidy, Join our Subsidy Scheme Facebook Group at:

https://www.facebook.com/groups/207876937500049/?ref=share

Read our other blog on Business specific Subsidy and incentives:

Majors Reforms in Haryana Enterprises Policy 2020

 

Agriculture Infrastructure Fund

 

Thanks.

90177-51780, 90171-51780

KIP Financial Consultancy Pvt. Ltd.

DSB – 38, KIP Complex, Red Square Market, Hisar – 125001, Haryana.

www.kipfinancial.com

email: sales@kipfinancial.com

 

MSME Unit

हरियाणा में MSME को विशेष लाभ

प्रौद्योगिकी से संबंधित लाभ:

व्यावसायिक लाइन में प्रौद्योगिकी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यदि आपके संयंत्र ने अग्रिम और अद्यतन प्रौद्योगिकी को अपनाया है, तो आप बाजार की चुनौती को पूरा कर सकते हैं और अपने उत्पाद को गुणवत्ता के निशान तक रख सकते हैं।

इसलिए व्यवसाय में प्रयुक्त प्लांट और मशीनरी से संबंधित प्रौद्योगिकी के महत्व पर विचार करने के लिए, राज्य सरकार ने राइट टेक्नोलॉजी को अपनाने के लिए विशेष प्रोत्साहन दिया है।

तो, यदि आप एक MSME पंजीकृत इकाई हैं तो आप प्रौद्योगिकी से संबंधित योजना का लाभ ले सकते हैं और अपनी उत्पाद लागत में कटौती कर सकते हैं।

कुछ प्रमुख योजनाएँ:

  1. प्रौद्योगिकी अधिग्रहण के लिए सहायता:

 

इसके तहत, यदि आपकी व्यावसायिक इकाई ने प्रीमियर राष्ट्रीय / अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों से उन्नत प्रौद्योगिकी या घरेलू / विदेशी कंपनियों से पेटेंट प्रौद्योगिकी प्राप्त कर ली है, तो राज्य सरकार ऐसी अधिग्रहीत प्रौद्योगिकी की लागत का 75% तक वित्तीय सहायता प्रदान करेगी।

 

अधिकतम लाभ रु। इस योजना के तहत 50.00 लाख रुपये उपलब्ध हैं।

 

इसलिए अपने व्यवसाय को पारंपरिक और पुरानी तकनीक से न चलाएं। उन्नत तकनीक को अपनाएं और MSME विभाग की इस योजना का लाभ प्राप्त करें।

 

  1. परीक्षण उपकरण सहायता:

 

आपका उत्पाद चिन्हित करना है या नहीं, व्यवसाय में उत्पाद का परीक्षण सबसे महत्वपूर्ण हो गया है। यदि आप अपने उत्पाद के दोष को दूर नहीं कर सकते हैं तो बाजार आपके उत्पाद को अस्वीकार कर देगा।

 

तो उत्पादों की गुणवत्ता में “शून्य दोष” सुनिश्चित करने के लिए और इसे विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए, आप परीक्षण उपकरण खरीद सकते हैं। MSME विभाग ने परीक्षण उपकरण की लागत का 50% का वित्तीय समर्थन प्रदान किया है।

 

अधिकतम लाभ रु। 20.00 लाख प्रति वर्ष इस योजना के तहत उपलब्ध है।

 

  1. प्रौद्योगिकी उन्नयन के लिए क्रेडिट लिंक्ड कैपिटल सब्सिडी

 

यदि आप एक व्यवसाय चला रहे हैं और प्रौद्योगिकी का उन्नयन कर रहे हैं तो आपकी व्यावसायिक इकाई इस योजना का लाभ ले सकती है।

 

इसके लिए प्लांट और मशीनरी की खरीद के लिए बैंक टर्म लोन लेना होगा। केवल उस स्थिति में आप इस योजना का लाभ ले सकते हैं।

 

इस योजना के तहत:

 

(i) पूंजी सब्सिडी:

आप प्लांट और मशीनरी की लागत का 15% कैपिटल सब्सिडी ले सकते हैं। अधिकतम सब्सिडी रु। इस योजना के तहत 15.00 लाख प्राप्त किए जा सकते हैं।

 

(ii) ब्याज सब्सिडी:

आप प्लांट और मशीनरी की खरीद के लिए टर्म लोन पर ब्याज सब्सिडी भी ले सकते हैं।

 

ब्लॉक ए और बी के लिए:

ब्याज सब्सिडी @ 5% होगी

और यदि आपका व्यवसाय ब्लॉक सी और डी के तहत स्थित है तो आप ब्याज सब्सिडी @ 6% ले सकते हैं।

 

इस योजना के तहत अधिकतम लाभ रु। 10.00 लाख प्रति वर्ष।

आगे आप इस ब्याज सब्सिडी का लाभ 3 साल की अवधि के लिए ले सकते हैं।

 

MSME योजनाओं और सब्सिडी के बारे में अधिक जानने के लिए, हमारी सब्सिडी योजना Facebook ग्रुप में शामिल हों:

https://www.facebook.com/groups/207876937500049/?ref=share

 

Thanks.

90177-51780, 90171-51780

KIP Financial Consultancy Pvt. Ltd.

DSB – 38, KIP Complex, Red Square Market, Hisar – 125001, Haryana.

www.kipfinancial.com

email: sales@kipfinancial.com

 

No Comment

Comments are closed.